Saturday, April 13, 2024
HomeTechnologyGadgetsTPMS क्या है, कारों के लिए क्यों है इतना जरूरी - Tire...

TPMS क्या है, कारों के लिए क्यों है इतना जरूरी – Tire Pressure Monitoring System

TPMS व्हीकल्स में टायर प्रेशर की मॉनिटरिंग के लिए होता है एवं ये मॉडर्न व्हीकल्स में आम तौर पर मिलने वाला Feature बन चुका है। जो कि गाड़ी के टायर्स में प्रेशर को सही बनाए रखने के लिए साथ साथ बेहतर माइलेज के लिए बहुत आवश्यक है। ये वाहनों की सेफ्टी एवं वाहनों में सही टायर प्रेशर न होने के कारण होने वाले एक्सीडेंट्स को रोकने के लिए बहुत आवश्यक है। मगर फिर भी अधिकतर लोग नहीं जानते हैं कि ये किस प्रकार से Work करता है। यहाँ हम आप लोगों को TPMS से जुड़े आपके सभी सवालों का जवाब देने वाले हैं।

TPMS kya hai

TPMS क्या है

कारों में टीपीएमएस फ़ीचर (Tire Pressure Monitoring System) ड्राइवर को टायरों में प्रेशर के संबंध में बताता है। यह आप लोगों को टायर में प्रेशर की जानकारी देकर पहले ही बता देता है कि आपकी कार में कहीं पंचर होने की पॉसिबिलिटी तो नहीं है या फिर किसी टायर में हवा ज्यादा कम तो नहीं है।

आपको पता होगा कि सही व्हील अलाइंमेंट न होना, टूटी हुई सड़कें अथवा टूटे हुए अलॉय व्हील जैसी कई वजह हैं जो टायर में वायु के दबाव को कम कर सकती हैं। परंतु टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम होने पर अगर ऐसा कुछ भी होता है तो आपको तुरंत जानकारी मिल जाती है।

TPMS कैसे काम करता है

Tire Pressure Monitoring System कई प्रकार के Sensor की सहायता से कार्य करता है एवं इसका आउट्पुट कार के केबिन में लगी स्क्रीन पर डिस्प्ले कर देता है। ये Sensor हर टायर के लिए अलग अलग होते हैं। जिसका मतलब यह हुआ कि कार के प्रत्येक टायर की सूचना इन सेंसर के द्वारा सिस्टम को मिलती रहती है जिससे आपकी नजर हर टायर पर बनी रह सके।

सामान्यत: TPMS में लगे सेसंर हर टायर के वाल्व में बाहर की साइड से कनेक्टेड होते हैं परंतु आजकल ये टायर के अंदर ही वाल्व के साथ इंटीग्रेट होकर आ रहे हैं। ये टायर्स के Air Pressure और Temperature को मॉनिटर करने का कार्य करते हैं। ये टायरों के भीतर वायु के दवाब को लगातार मापते रहते हैं। इन्हीं Sensor द्वारा आउट्पुट डाटा वायरलेस युक्ति से रिसीवर तक जाता है। इसके पश्चात रिसीवर कैलकुलेशन करके टायर में एयर प्रेशर के रिजल्ट को स्क्रीन पर डिस्प्ले कर देता है।

TPMS कितने प्रकार के होते है –

TPMS Device को बहुत सरलता से किसी भी वाहन के टायरों में एक्सटर्नली कनेक्ट किया जा सकता है। ये दो तरीके के होते हैं प्रथम डायरेक्ट एवं दूसरा इनडायरेक्ट। यहाँ हम आप लोगों को बताने जा रहे हैं कि इन डायरेक्ट और इनडायरेक्ट टीपीएमएस में क्या अंतर है।

इंडायरेक्ट टीपीएमएस – Indirect TPMS

इंडायरेक्ट टीपीएमएस अधिक किफायती एवं मेंटेन करने में आसान होता है, परंतु Indirect TPMS आप लोगों को केवल एस्टिमेटेड टायर प्रेशर बताता है। इंडायरेक्ट टीपीएमएस एंटी-लॉक ब्रेक सिस्टम (एबीएस) के साथ कार्य करता है। इसमे लगे Sensor हर पहिए के घूमने की स्पीड को मापते हैं, जिसके आंकड़े कार के रिसीवर में लगे कंप्यूटर सिस्टम को मिलते रहते हैं। कंप्यूटर एक व्हील के डाटा की तुलना दूसरे व्हील से करता है एवं हर पहिये के घूमने की गति के आधार पर यह सुनिश्चित करता है कि कौन सा व्हील दूसरे व्हील की अपेक्षा तेज गति से घूम रहा है। इसके आधार पर ये कैलकुलेशन करके इंस्ट्रूमेंट कंसोल पर डिस्प्ले कर देता है कि किस टायर में प्रेशर कम है।

डायरेक्ट टीपीएमएस – Direct TPMS

डायरेक्ट टीपीएमएस आपकी कार के टायर में प्रेशर के ज्यादा सटीक आंकड़े उपलब्ध कराता है। क्योंकि यहाँ Sensor हर टायर के भीतर लगे होते है जिसके कारण यह हर टायर में दबाव की सही-सही गणना कर पाता हैं। क्योंकि ये हर टायर में एक्सटर्नली डायरेक्ट कनेक्ट होता है इसलिए ये हर टायर का प्रेशर अलग अलग मॉनिटर करके बताता है।

क्यों जरूरी है कारों में टायर प्रेशर मॉनीटरिंग सिस्टम

आप जानते होंगे टायर को कम हवा के साथ चलाना आपकी कार की परफॉरमेंस के साथ-साथ उसके माईलेज को भी प्रभावित करता है, इसके साथ ही यह टायरों की लाइफ को भी घटाता है। परंतु TPMS के द्वारा आपको टायरों का रियल टाइम डाटा मिलता रहता है जिससे आप टायरों का ध्यान रख पाते है।

आप जानते होंगे कार के टायर में किसी भी भांति की कठिनाई होती है तो इसके संबंध में ड्राइवर को तब तक पता नहीं लगता है जब तक कि ड्राइवर स्वयं कार से उतरकर टायर को चेक न कर ले जिसमें समय की खराबी तो होती है बल्कि जब तक पंक्चर नहीं हो जाता लोग टायर को कभी चेक ही नहीं करते है। इस दिक्कत से निजात पाने के लिए ही अब बाजार में उपलब्ध कुछ कारों में TPMS अर्थात टायर प्रेशर मॉनीटरिंग सिस्टम ऑफर किया जा रहा है। यह सिस्टम पहले ही बता देता है कि कार का टायर बर्स्ट हो सकता है अथवा इसमें एयर प्रेशर तीव्र गति से कम हो रहा है।

TPMS की वजह से हम अपनी कार के टायरों में प्रॉपर प्रेशर मेंटेन रख पाते है। इस तरह से यह हमारी सेफ्टी को बढ़ाने मे मदद करता है। साथ ही यदि टायर में प्रेशर ठीक रहता है तो आपकी गाड़ी सड़क पर स्टेबल भी रहती है। और गाड़ी चलाते समय टायर्स के डैमेज होने का रिस्क भी कम हो जाता है।

Best TPMS In Market

भारत में TPMS की लागत विभिन्न ब्रांडों और मॉडलों के आधार पर भिन्न होती है। यहाँ कुछ अच्छे TPMS के उदाहरण दिए गए हैं:-

  1. Skyshop® Solar C240 Pro External USB/Solar TPMS (Car Tyre Pressure Monitoring System) Suitable for All Car with 4 Tires Sensors PSI & Temperature Display (External Sensors)
  2. SensAiry Pro Bluetooth LE Tyre Pressure Monitoring System (TPMS) – 5 Sensors
  3. RSI® Voice Alert USB/Solar Powered TPMS (Tire Pressure Monitoring System) Suitable for All Car with 4 Tires Sensors PSI & Temperature Display (External Sensor Windshield TPMS)

ये बाजार में उपलब्ध कुछ अच्छे TPMS है। इसके अतिरिक्त आप और ज्यादा ऑनलाइन खोज सकते हैं। यदि आपको और जानकारी चाहिए, तो कॉमेंट में पूछ सकते है।

क्या कार में मार्केट से भी लगवा सकते हैं टीपीएमएस

वैसे तो अब नई गाड़ियों में टीपीएमएस का फ़ीचर पहले से ही मिल रहा है। मगर किसी गाड़ी में यह नहीं भी मिलता है तो भी इसे बाहर से फिट कराया जा सकता है। ड्राइवर के पास उपलब्ध रेट्रोफिट किट का प्रयोग करके इसे कार में लगाने का Option होता है। आप इसे ऑनलाइन मंगाकर या किसी दुकान से पर्चेस करके लगवा सकते हैं। यह बिल्कुल वैसे ही कार्य करता है जैसे कोई कंपनी द्वारा फिट किया गया टीपीएमएस कार्य करता है।

क्या टायर में अधिक प्रेशर भी खतरनाक है

टायर में अधिक हवा होना भी कभी कभी खतरनाक साबित होता है। क्योंकि टायर में हवा कम होने पर टायर का सड़क से सम्पर्क कम हो जाता है जो दुर्घटना की वजह बनता है। हवा कम होने और अधिक होने दोनों ही सिचुएशन में TPMS द्वारा आपको जानकारी मिल जाती है। जिससे आपकी ड्राइविंग सेफ बनती है। TPMS से टायर की Life भी Increase होती और उसके रख-रखाव का व्यय भी कम होता है।

टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम क्या है

TPMS में एक सेंसर, रिसीवर एवं एक स्क्रीन यूनिट होती है। यह सेंसर हर टायर के वाल्व स्टेम से कनेक्ट होता है। कई कारों में सेंसर टायर के अंदर प्रेशर वाल्व के साथ लगे होते हैं। जो कि टायरों में एयर को मापकर डाटा को वायरलेस के द्वारा रिसीवर तक पहुंचा देते है। फिर रिसीवर इस सूचना को स्क्रीन यूनिट पर भेज देता है।

अब आप लोग को पता लग गया होगा कि TPMS अर्थात टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम क्या है एवं यह आपके ड्राइविंग एक्सपीरियंस को बेहतर एवं सिक्योर कैसे बनाता है। आपको बता दें कि टीपीएमएस फ़ीचर वाली प्राचीन कारें इंस्ट्रूमेंट कंसोल पर सिर्फ वॉर्निंग देती थीं, नई कारें आप लोगों को हर टायर में सटीक प्रेशर को बता देती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular