Sunday, April 14, 2024
HomeBusinessIncome Tax: जानें क्या है घर पर सोना रखने के नियम, जिससे...

Income Tax: जानें क्या है घर पर सोना रखने के नियम, जिससे कि आयकर विभाग ज़ब्त न करे

यदि आप लोगों को उपहार में अथवा पैतृक धन के रूप में सोना प्राप्त हुआ है या आपके घर पर किसी अन्य तरह से इकट्ठा हुआ सोना है तो आपको जरूर जानना चाहिए कि घर पर सोना रखने के नियम क्या है अथवा घर पर सोना रखने के कानून के तहत आयकर विभाग का छापा पड़ने पर आपको कैसे कुछ राहत मिल सकती है आज हम इस आर्टिकल में यही जानेंगे कि How much gold can you keep at home as per Income Tax? । 

Income Tax Rules Related To Gold Jewellery Holdings

घर में आप कितना सोना अथवा सोने से बने कितने गहने रख सकते हैं, इसका एक हिसाब होता है। आयकर विभाग की तरफ से इसका पूरा प्रारूप निश्चित है। यदि आप चाहते हैं कि आपके घर में रखे गोल्ड को आयकर विभाग अधिहृत न करे तो आपको घर में सोना रखने की अधिकतम सीमा जरूर पता कर लेनी चाहिए। आपको इससे सम्बंधित सभी नियम पता होने चाहिए कि कौन सी परिस्थितियों में आयकर विभाग आपके गोल्ड को कब्जे में ले सकता है या कौन सी परिस्थितियों में नहीं।

भारत सरकार की ओर से फाइनेंस मिनिस्ट्री ने वर्ष 2016 में इससे सम्बंधित एक नियम दिया था। इसमें जानकारी में लाया गया है कि कोई इंसान विरासत में प्राप्त गोल्ड को कितनी क्वांटिटी में अपने पास रख सकता है एवं आय का कोई स्त्रोत होने अथवा न होने की दशा में घर पर सोना रखने के क्या रूल्स है।

विरासत में प्राप्त सोने को घर पर रखने की कोई सीमा नहीं | No Limits on gifted Gold in home

घर पर सोना रखने का नियम कहता है कि यदि हमारे पास आय का कोई उचित स्त्रोत है अथवा हमें विरासत में सोना प्राप्त हुआ है तो उसकी कोई लिमिट फिक्स नहीं है। इन दोनों ही केस में सोना रखने की अधिकतम सीमा नहीं है एवं आप जितना चाहें उतना सोना अपने घर पर रख सकते हैं। आयकर विभाग इसके संदर्भ में आपसे कोई प्रश्न नहीं पूछेगा। यहाँ सोने का अर्थ सोने के बिस्किट अथवा गहनों से है। यदि आयकर विभाग आपसे पूछ-ताछ करता है तो आप सरलता से स्त्रोत को बता सकते हैं इसलिए आपके विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं होगी। 

इनकम सोर्स न हो तो क्या होगा | How much gold can you keep at home without earning source?

अब हम सब जानते हैं कि यदि हमारे पास आय के उचित स्त्रोत नहीं है अथवा स्त्रोत है भी तो वह गोल्ड की क्वांटिटी से मैच नहीं कर रहे हो तो क्या होगा? इस स्थिति में आयकर विभाग ये ही समझेगा कि या तो आपकी आमदनी कम है या फिर आपके घर में सोना अधिक है। इसलिए यदि आपकी आमदनी कतई नहीं है फिर भी आपके घर पर सोना जमा रखा हुआ है तो आपके ऊपर आयकर विभाग की कार्यवाही हो सकती है। यद्यपि इसमें भी राहत के लिए कुछ नियम है। यदि आपके घर पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का छापा पड़ता है तथा उनको सोना प्राप्त होता है तो घर में किसी शादी वाली औरत के नाम पर कुछ छूट प्राप्त हो सकती है।

विवाहित स्त्री रख सकती है अधिकतम इतना गोल्ड | How much gold a married woman can hold?

आयकर के नियमानुसार, शादीशुदा महिला के नाम पर घर पर 500 ग्रा॰ तक सोना रख सकते हैं। वहीं यदि औरत अविवाहित हो तो यह क्वांटिटी 250 ग्रा॰ तक है। बिना किसी आय स्त्रोत के इससे अधिक सोना पकड़े जाने पर कार्यवाही हो सकती है। पुरुषों के संबंध में इस प्रकार का कोई नियम नहीं है कि वह शादीशुदा है अथवा अविवाहित। परिवार का कोई भी आदमी अपने नेम पर 100 ग्रा॰ तक गोल्ड शो कर सकता है।

धार्मिक आस्थाओं के चलते घर पर सोना रखने के कानून में प्राप्त होती है कुछ छूट

इन सारे नियमों के उपरांत भी घर में रखे गोल्ड को लेकर क्या कार्यवाही हो सकती है, इसका निर्णय एसेसिंग ऑफिसर पर डिपेंड करता है। यदि उस ऑफिसर को लगता है कि घर के रीति रिवाज या धार्मिक आस्था के मुताबिक इनकम सोर्स से ज्यादा सोना रखा जा सकता है तो वह कोई कार्यवाही नहीं करेगा। गौर रखें कि ऊपर गोल्ड की जिस क्वांटिटी पर इनकम टैक्स की छूट बतायी गई है वह केवल ज्वैलरी के लिए है जो पारिवारिक सदस्यों के नाम होती है। यदि आपके घर पर किसी अन्य व्यक्ति का सोना अथवा गहने रखे गए है तो आयकर विभाग द्वारा उसे सीज करा जा सकता है। तब आपकी दी हुई कोई सफाई नहीं चलेगी। 

घर में रखे सोने पर कर का नियम | Income tax on gold and jewellery

यदि आप लोगों को उपहार में अथवा विरासत में सोना प्राप्त हुआ है तो आपको उससे सम्बंधित पेपर्स दिखाने होंगे। साथ ही घर पर रखे सोने का जिक्र आपको इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते समय भी करना होगा। पेपर्स के रूप में आप उस इंसान से मिली रसीद को दिखा सकते हैं जिसने आप लोगों को सोना गिफ्ट में दिया है। चाहें तो आप Family Settlement Deed, Gift Deed भी दिखा सकते हैं जिसमें गोल्ड के ट्रांसफर की बात लिखी गई हो। मानलो कि आपके पास कोई Proof नहीं है तो छापेमारी करने वाला एसेसिंग ऑफिसर आपकी फैमिली का स्टेटस अथवा हैसियत देखेगा, रीति रिवाज और धार्मिक मान्यता पर ध्यान देगा एवं कार्यवाही करने अथवा न करने पर निर्णय लेगा। 

तो दोस्तों आपको यह जानकारी कैसी लगी। शायद अब आपको यह पता लग गया होगा कि आप अपने और घर वालों के नाम पर कितना सोना रख सकते है अब आप सभी बिना डर के अपने घर पर सोना रख सकेंगे। अगर आपको आर्टिकल अच्छा लगा हो तो अपने ज़रूरतमंद दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular