Thursday, May 23, 2024
HomeNewsइस ट्रेन का रूट क्लीयर करने के लिए रोक दी जाती है...

इस ट्रेन का रूट क्लीयर करने के लिए रोक दी जाती है शताब्दी और राजधानी, जानें क्यों रखा जाता है इतना ध्यान

देश में प्रतिदिन लगभग 10,000 से ज़्यादा ट्रेनें चलती हैं। इनमें से बहुत सी ट्रेन को प्रायोरिटी दी जाती है। इनमें शताब्दी, राजधानी एवं वंदे भारत ट्रेन सम्मिलित हैं। परंतु एक ट्रेन ऐसी भी है जो पटरी पर आ रही हो तो उसको रास्ता देने के लिए इन VIP Trains को भी किनारे करना पड़ता है। जानें कौन सी है यह ट्रेन…

नई दिल्ली: Odisha में भयंकर रेल हादसा हुआ है। तीन ट्रेनों के आपस में टकराने से हुए इस हादसे में लिहाजा 300 पैसेंजर मारे गए हैं जबकि 900 के आसपास घायल हुए हैं। इसे भारत के इतिहास का चौथा सबसे ज्यादा बड़ा रेल हादसा बता रहे है। घायल व्यक्तियों को राहत देने के लिए कई Accident Relief Medical Equipment ट्रेनों को भेजा गया है। इन ट्रेनों का प्रयोग ट्रेन हादसों के समय दुर्घटना के स्थान पर मेडिकल हेल्प पहुंचाने के लिए किया जाता है। इस ट्रेन को सबसे अधिक महत्व दिया जाता है। इसके आगे अगर शताब्दी (Shatabdi) या राजधानी (Rajdhani) जैसी VIP Trains भी चल रही होंगी, तो उन्हें रोक दिया जाता है और इस ट्रेन को रास्ता दिया जाता है। यह इंडियन रेलवे की सबसे अधिक प्राथमिकता वाली ट्रेन है।

एक्सीडेंटल रिलीफ मेडिकल इक्विपमेंट अर्थात ARME उच्च प्राथमिकता वाली ट्रेन हैं। इसे इमरजेंसी में अथवा दुर्घटना के उपरांत चलाया जाता है। इन ट्रेनों में राहत कार्य के लिए मेडिसिन और चिकित्सकीय उपकरण होते हैं। उनके आगे चल रही किसी भी ट्रेन को ARME Trains के लिए रास्ता ख़ाली करने के लिए रोक देते है। इसका उद्देश्य दुर्घटनास्थल पर पहुंचकर शीघ्र अतिशीघ्र राहत सामग्री पहुंचाना होता है। इसके साथ ही इसके द्वारा घायलों को नजदीक के हॉस्पिटल ले जाया जाता है। एक्सीडेंटल एरिया के अतिरिक्त ये ट्रेनें आपदा से ग्रसित इलाक़ों में भी भेजी जाती हैं।

किसे मिलती है सबसे अधिक अटेंशन
देश में प्रतिदिन लगभग 10,000 से ज़्यादा ट्रेनें चलती हैं। मगर राजधानी और शताब्दी को सबसे अधिक महत्व दिया जाता है। अब वंदे भारत ट्रेन भी इसी कैटेगरी में सम्मिलित हो गई हैं। भारत में अभी तक 18 वंदे भारत ट्रेन चलाई जा चुकी हैं। पीएम मोदी को आज Goa-Mumbai वंदे भारत ट्रेन को हरी झंडी दिखानी थी मगर Odisha में हुए ट्रेन एक्सिडेंट की वजह से इसे कैंसल कर दिया गया। इंडियन प्रेसिडेंट द्वारा प्रयोग की जाने वाली ट्रेन को भी खास वरीयता दी जाती है। इसका रूट भी आगे चल रही सभी ट्रेनों का रास्‍ता रोककर क्लीयर किया जाता है। अब इसका प्रयोग नहीं के बराबर होता है।

आम दिनों में Rajdhani Express सबसे उच्च प्राथमिकता वाली ट्रेन है। सभी ट्रेनों को रोककर इसका रूट क्लीयर किया जाता है। यह ट्रेन ठीक वक्त पर पहुंचने एवं अपनी जबरदस्त सुविधाओं के लिए जानी जाती है। राजधानी के पश्चात शताब्दी एक्‍सप्रेस को सबसे अधिक तव्‍वजो दी जाती है। 2009 में शुरू की गई दुरंतो एक्सप्रेस वरीयता सूची में तीसरे नम्बर पर है। तेजस एक्सप्रेस सेमी-हाईस्पीड फुल एसी ट्रेन है। राजधानी, शताब्‍दी एवं दुरंतो के उपरांत वरीयता क्रम में इसका ही नम्बर आता है। इसके पश्चात Garib Rath Express, Double Decker Express एवं Jan Shatabdi Express ट्रेनों को वरीयता दी जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular